RSS Full Form in Hindi

RSS Full Form in Hindi :- RSS भारत का सबसे बडा हिन्दू धार्मिक संगठन है शायद ही किसी ने इसका नाम न सुना हो कुछ लोग इसे इस्लाम विरोधी भी मानते हैं क्योंकि यह हिन्दू वादी संगठन है। आज के इस आर्टिकल में RSS Ka Full Form Kya Hota Hai, RSS का मतलब तथा आर एस एस से संबंधित सभी प्रश्नों के उत्तर आपको इस आर्टिकल में मिलने वाला है। तो चलिए जानते हैं कि आरएसएस क्या है और ये बातें कहाँ तक उचित है।

RSS Kya Hai – What is RSS

RSS भारत का सबसे प्रमुख हिन्दू राष्ट्र वादी अर्धसैनिक, स्वयंसेवक संगठन है। जो प्रमुख रूप सनातन विचारधारा का प्रचार प्रसार करता है और हिन्दू समाज को मजबूत बनाने का काम करता है। यह संगठन किसी भी धर्म की बुराई नहीं करता है हालांकि इस पर कई लोग झूठे आरोप लगाया करते हैं जिनका कोई भी आस्तित्व नहीं है। RSS संगठन भारतीय जनता पार्टी का पैतृक संगठन भी माना जाता है इसका प्रमुख उद्देश्य मातृभूमि के लिए निःस्वार्थ सेवा है

BBC की एक रिपोर्ट के मुताबिक RSS विश्व का सबसे बड़ा स्वयंसेवी संस्थान है यह संगठन भारतीय संस्कृति और नागरिक समाज के मूल्यों को बनाये रखने के आदर्शों को बढ़ावा देता है। इसके बारे में सेवानिव्रत न्यायधीश श्री केटी थॉमस नें कहा है की सेना और संविधान के बाद अगर कोई भारतीयों की सुरक्षा कर सकता है तो वह RSS है।

RSS Ka Full Form in Hindi

RSS Full Form in Hindi :- राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

RSS Ka Full Form in English :- RASTRIYA SWAYAMSEWAK SANGH

RSS की स्थापना 27 सितंबर 1925 को दशहरे के दिन (95 वर्ष पहले)” डॉ केशव बलिराम हेडगेवार” ने की थी। इसका मुख्यालय नागपुर में स्थित है। वर्तमान में इसके संचालक “मोहन भागवत जी” हैं| इसका मुख्यालय भारत मे नागपुर शहर में स्थित है।

RSS का इतिहास

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना 27 सितंबर सन् 1925 को डॉ बलिराम हेडगेवार द्वारा की गयी थी स्थापना के 50 वर्ष बाद सन् 1975 में देश में आपातकाल की घोषणा की गयी तब तात्कालिक जनसंघ पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया, आपातकाल हटने के साथ ही इसका विलय तात्कालिक जनता पार्टी (वर्तमान BJP) में हो गया और केंद्र में एक मिलीजुली सरकार आयी।

आपातकाल (1975) के बाद इसे राजनैतिक सपोर्ट मिलता गया जिससे की इसका राजनीतिक महत्व भी बढा और इसके परिणति भाजपा जैसे राजनैतिक दल के रूप में हुई इसी कारण भाजपा को RSS की शाखा के रूप में भी देखा जाता है।

RSS का कार्य

  • आरएसएस संघ का प्रमुख उद्देश्य भारत तथा भारत के नागरिक को खुश रखना है तथा प्रचीन संस्कृतियों को बनाए रखना है।
  • इस संगठन का मकसद भारत में विराजमान जाति-धर्म, वर्ग, ऊँच-नीच जैसे भेदभाव को जड़ से खत्म करना है।
  • यह संघ भारत देश में आने वाली सभी समस्याओं आपदाओं का सामना करने हेतु सदैव तत्पर्य रहती है।
  • RSS द्वारा ही सन् 1986 में श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन के माध्यम से हिन्दू समाज का स्वाभिमान उजागर किया है।
  • इसी संघ के द्वारा सन् 1964 में विश्व हिन्दू परिषद की स्थापना हुई थी।
  • यह संगठन गौ रक्षा का कार्य करती है।

RSS का मुख्य उद्देश्य

आरएसएस का मुख्य उद्देश्य देश से जाति, धर्म, वर्ग जैसे भेदभावों को मिटाकर प्रगति के क्षेत्र में ले जाना है। देश को किसी भी संकट में आने पर यह संघ शारीरिक एवं आर्थिक रूप से लोगों की मदद करता है। इसका उद्देश्य आर्थिक, सामाजिक, नागरिक, पर्यावरण जैसे कई अन्य महत्वपूर्ण चुनौतियों का समाधान करना है।

RSS Kaise Join Kare

दोस्तों अगर आप इस आर एस एस संगठन से जुड़ना चाहते हैं तो इसके लिए आपको कहीं पर किसी भी प्रकार की फीस देने की आवश्यकता नहीं है। इस संगठन में जुडने के लिए बस आपको करना क्या होगा की आर. एस. एस. की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर, उम्र, तथा कई अन्य प्रश्नों के उत्तर देकर फॉर्म को भरके सबमिट कर देना है।

आखरी शब्द –

मैं आशा करता हुँ की आपको यह छोटा सा आर्टिकल पसंद आया होगा, क्योंकि दोस्तों मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है कि हम आपको कम से कम शब्दों में अच्छा से अच्छा कंटेन्ट प्रदान कर सकें जिससे आपको पढ़ने और समझने में आसानी हो सके। आप इस आर्टिकल को अपने सभी दोस्तों और रिस्तेदारों में शेयर जरूर करना तथा इस लेख से संबंधित कोई सवाल हो तब इस पोस्ट (RSS Full Form in Hindi) के नीचे कॉमेंट जरूर करना।

धन्यवाद! आपका दिन शुभ हो!

Questions And Answers

आरएसएस का मुख्यालय कहाँ स्थित है?

RSS का मुख्यालय नागपुर महाराष्ट्र में स्थित है।

RSS की स्थापना किसनें की थी?

इसकी स्थापना डॉ केशव बलिराम हेडगेवार ने की थी।

आरएसएस का जन्म कब हुआ?

आरएसएस का जन्म सन् 1925 में हुआ था।

आर एस एस की शुरुआत कब से हुई थी?

इस संघ की शुरुआत 27 सितंबर सन् 1925 को दशहरे के दिन हुई थी।

1 thought on “RSS Full Form in Hindi”

Leave a Comment