USB Full Form in Hindi

USB Full Form in Hindi :- नमस्ते दोस्तों आप सभी लोगों क एक नए आर्टिकल में स्वागत है और आज के इस पोस्ट में USB Ka Full Form Kya Hai तथा USB Kya Hota Hai था इसके अलावा भी USB से संबंधित कुछ अन्य महत्वपूर्ण जानकारियों के बारे में भी विस्तार से जानने वाले हैं।

यूएसबी Keyboard, Mouse, Music Player तथा Flash Drives को किसी अन्य माध्यम जैसे की कंप्यूटर तथा मॉनिटर, प्रिंटर, स्कैनर को एक साथ जोड़े रखने का कार्य करता है। इन सभी जानकारियों को हम विष्टार से जानेंगे, कृपया करके आप यह आर्टिकल पूरा जरूर पढ़ें।

USB क्या है ? – USB in हिन्दी :-

यूएसबी एक बहुत ही Standard Cable Connection होता है जो की Personal Computer और Consumer Electronics Devices के बीच एक Interface प्रदान करता है। यह यूएसबी पोर्टस Allow करते हैं की एक डिवाइस दूसरे डिवाइस से जुड़ा हुआ है। और इसी के माध्यम से हम अपना डिजिटल डाटा एक डिवाइस से किसी दूसरे डिवाइस में भेज पाते हैं।

USB Full Form in Hindi :-

USB का फुल फॉर्म Universal Serial Bus होता है तथा हिन्दी में यूनवर्सल सीरीअल बस होता है। यूएसबी एक ऐसा डिवाइस या केबल होता है जो कंप्यूटर से किसी दूसरे पार्ट्स को कनेक्ट रखते हैं। यूएसबी आज के कंप्यूटर में होने वाले सबसे सामान्य प्रकार का कंप्यूटर पोर्ट होता है। जिसका इस्तेमाल कीबोर्ड, Game, Controllers, प्रिंटर, एवं इसी प्रकार के अन्य डिवाइस को जोड़ने के लिए किया जाता है।

यूएसबी हब की सहायता से आप 127 External Devices को एक Single यूएसबी पोर्ट से कनेक्ट कर सकते हैं। इससे एक ही बार में हम सभी का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह यूएसबी पुराने पोर्टस सीरीअल और पैरेलल पोर्टस से भी तेज है। यह यूएसबी 1.1 12MB प्रति सेकंड तक का डाटा ट्रांसफर करता है। तथा USB 2.0 अधिकतम 480MB प्रति/सेकंड के डाटा को भेज सकता है।

यूएसबी को Intel, Digital, Compaq और IBM द्वारा बनाया और डिजाइन किया गया है। पिछले कुछ वर्षों में यूएसबी अपु PC दोनों के लिए एक व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला क्रॉस प्लेटफ़ॉर्म इंटरफेस बन गया है। यह एक ऐसी टेक्नॉलजी है जिसकी मदद से आप किसी भी डिगिटल डाटा को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में बड़ी ही आसानी से भेज सकते हैं। सबसे पहला यूएसबी पोर्ट अजय भट्ट जी के द्वारा तैयार किया गया था। उस समय अजय भट्ट Intel कंपनी की टीम में शामिल थे।

USB का इतिहास :-

यूएसबी डिवाइस का प्रयोग विंडोज, मैक तथा लिनक्स जैसे कई प्लेटफ़ॉर्म में किया जा सकता है। यह बाहरी उपकरों को पीसी से कनेक्ट करने के लिए बनाया गया था। इस यूएसबी को 1994 ईस्वी में 7 कंपनियों के द्वारा बनाया गया था। जो की सातों कंपनियों के नाम कुछ इस प्रकार हैं –

  1. INTEL
  2. IBM
  3. DEC
  4. NEC
  5. NORTAL
  6. MICROSOFT
  7. COMPAQ

USB Devices क्या है ?

Full Form of USB in Computer – यूएसबी डिवाइस उन्हें कहते हैं जो यूएसबी टेक्नॉलजी का उपयोग करके अपने कार्य को सुचारु रूप से करते हैं। जैसे की नीचे कुछ नाम दिए गए हैं –

  • Mouse
  • Keyboard
  • Tablet
  • Webcams
  • Smartphone
  • Printer
  • Joystick
  • Scanner
  • Jump drive aka Thumb drive
  • Microphone
  • Digital Drive
  • External Drive
  • Digital Camera
  • IPod or Other MP3 Player

All USB Version एवं Data Transfer Speed :-

USB 1.0 :- यह एक External Bus Standard है जो 12 MB प्रति सेकंड के हिसाब से data transfer rates को support करता है। और यह करीब 127 peripheral devices को support करने में capable होता है।

USB 2.0 :- इसे hi-speed USB के नाम से भी जाना जाता है। इस USB 2.0 को पहली बार 2001 में पहली बार इस्तेमाल किया गया था। और फिर बाद में दूसरे कंपनी जैसे की Hewlett Packard, Compaq, Intel, Lucent, Microsoft, Phillips और NEC के द्वारा इस्तेमाल में लाया गया था। USB 2.0 में करीब 480 MB प्रति सेकंड के स्पीड से डाटा ट्रांसफर कर सकता है।

USB 3.0 :- इन USB को पहली बार सन् 2009 में Buffalo Technology के द्वारा बनाया गया था। इसे SuperSpeed भी कहा जाता है। Certified Devices के Available ना होने के कारण इसे पहली बार 2010 में इस्तेमाल में लाया गया था। इसमें improved power management होता है और इसकी bandwidth capability भी बेहतरीन होती है। यह USB 2.0 की तुलना में काफी ज्यादा speed और बेहतर performance प्रदान करता है। यह USB 3.0 करीब 5.0 GB प्रति सेकंड की speed की data transfer को support करता है।

USB 3.1 :- इस प्रकार के यूएसबी को SuperSpeed++ भी कहा जाता है यह यूएसबी करीब 10 GB प्रति सेकंड के हिसाब से डाटा ट्रांसफर करता है।

USB 3.2 :- इस USB को SuperSpeed++ भी कहा जाता है इस टेक्नॉलजी को सन् 2017 में रिलीज किया गया था और इसके डाटा ट्रांसफर करने की अधिकतम स्पीड 20 GB (Giga Byte) प्रति सेकंड है। फिलहाल ये अभी तक का सबसे latest version USB Protocol है।

USB Advantages :-

  • Expand करने में आसानी होना
  • Auto-configuration
  • इस्तेमाल करने मे आसानी होना
  • Multiple Devices के लिए Single Interface
  • Compact Size का होना
  • External Power की कोई जरूरत नहीं
  • Relibility
  • Speed
  • Low cost
  • Low power consumption करना

USB Disadvantages :-

  • Peer to Peer Communication का होना
  • Distance का ना होना
  • Broadcasting

Conclusion :-

दोस्तों में आशा करता हुँ की आपको आज का यह आर्टिकल यूएसबी का फुल फॉर्म क्या होता है { USB Full Form in Hindi } पसंद आया होगा, अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो आप इस लेख को अपने दोस्तों, इस्तेदारों को को जरूर शेयर करना, जिससे की हमारे बीच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा। मुझे आप लोगों की सहयोग की बहुत आवश्यकता है जिससे की मैं और नई नई जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ।

हमारी हमेशा से यही कोशिश रहती है की में आप लोगों को अच्छा से अच्छा Content प्रदान करूँ जिससे की पाठकों को पढ़ने में कोई परेशानी ना हो। इसके अलावा यदि आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो आप इस पोस्ट नीचे कमेन्ट कर सकते हैं, और हमसे हमारे सोशल मीडिया पर भी जुड़ सकते हैं।

धन्यवाद! आपका दिन शुभ हो!

Leave a Comment